कौवे की प्रेरक कहानी-Crow Hindi Kahani

0

कौवे की प्रेरक कहानी(Crow hindi kahani):एक बार एक कौवा तालाब के किनारे जा कर पानी पी रहा था।वह खुद को दुनिया का ख़ुश पक्षी समझता था।वहां पर उसने हंस को देखा और वह मन ही मन सोचने लगा “अरे वाह कितना सुन्दर पक्षी है शायद ये दुनिया का सबसे खूबसूरत पक्षी है इसलिए यह पक्षी सबसे संतुष्ठ पक्षी होगा मे नहीं।”

कौवा उसके पास गया और उसने हंस से कहा “तुम कितने सुन्दर और कितने विशाल हो।मुझे लगता है तुम्ही दुनिया के सबसे संतुष्ट पक्षी होगे?”

कौवे की प्रेरक कहानी-Crow Hindi Kahani
कौवे की प्रेरक कहानी-Crow Hindi Kahani

हंस बोला “मे भी यही सोचता था कि में दुनिया का सबसे संतुष्ट पक्षी हु जब तक मने तोते को नहीं देखा था।जब मैने तोते को देखा तो मुझे लगा की शायद यही दुनिया का सबसे संतुष्ट पक्षी होना चाहिए।क्योंकि तोते के दिन अलग अलग रंग होते है।उसकी आवाज़ भी बहुत मधुर होती है इसलिए मुझे लगता है वही सबसे संतुष्ट पक्षी होगा।”

यह सुन वह कौवा तोते के पास एक जंगल में जा पंहुचा।वह तोता पेड़ की एक टहनी पर बैठे हुए था।कौआ उसके पास गया और बोला “तोता भैया आप ही दुनिया के सबसे संतुष्ट पक्षी होना?”

तोता बोला “हाँ मुझे भी लगता था कि मे ही दुनिया का सबसे संतुष्ट पक्षी हु जब तक मैने मोर को नहीं देखा था।मोर बड़ा ही शानदार और रंग-बेरंगी पंखों वाला पक्षी है।तो मुझे लगता है वही सबसे संतुष्ट पक्षी होना चाहिए।”

यह सुन कौआ मोर के पास पहुँचा।उस ने वहा देखा की मोर को देखने के लिए हज़रो लोग आये हुए है।कौआ उसके पास गया और मोर से बोला “क्या तुम्ही दुनिया के सबसे संतुष्ट पक्षी हो?क्योंकि वाकई तुम बोहोत खूबसूरत हो।”

यह सुन मोर ने कहा “नहीं बिलकुल नहीं।मेरी इशी खूबसूरती की वजह से लोग मुझे पिंजरे में बंद कर देते है।मुझे तो कौआ ही सबसे संतुष्ट पक्षी लगता है क्योंकि वह बिना कोई रोक टोक के खुले आसमान में कही भी उड़ सकता है।इसलिए मिझे लगता है कौआ ही दुनिया का सबसे संतुष्ट पक्षी है।”

यह सुन कौआ खुस हों गया और वहा से चला गया।

दोस्तों,कौवे की तरह हम भी है हम जब दुसरो को देखते है तो हमे लगता है कि हम ही दुनिया के सबसे unlucky इंसान है इसलिए हम कभी संतुष्ट नहीं हो पाते।हमे दूसरों की ही life अच्छी और बेहतर लगाती है यही वजह है कि हमें कभी सुकून नहीं मिलता और हमेसा असंतुष्ट रहते है।दोस्तों जो आपके पास नहीं है उस पर concentrate करने की बजाय आपके पास क्या है उस पर ध्यान देंगे तो आप हमेसा सन्तुष्ट और दुनिया के सबसे खुश आदमी होंगे।

Also read This hindi kahani:

  1. फुटा घड़ा
  2. किसान की घडी
  3. में एसा क्यों हूँ
  4. धक्का

 

दोस्तों अगर आपके पास भी प्रेरनादायी कोई कहानी(Hindi Kahani) है जो लोगो के लिए useful हो सकती है तो हमें वह कहानी ईमेल करे हम आपके फोटो और नाम क साथ हम यहाँ पब्लिश करेंगे.अगर आपकी कोई वेबसाइट है तो उसे भी हमे send करे हम आपकी वेबसाइट को भी यहाँ पब्लिश करेंगे जो dofollow लिंक होगी.और अगर आपकी कहानी लोगो क लिए उपयोगी रही तो हमारी तरफ से आपको पुरस्कार भी दिया जायेगा.

हमारा ईमेल है:[email protected]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

CommentLuv badge