ख्वाहिस-Heart Touching Story hindi

0

ख्वाहिस-Heart Touching Story:किसी एक पाठशाला में एक शिक्षिका बचो को पढ़ाती थी।एक दिन class में सभी बचो को बोला गया कि वह सभी को आपने एक ख्वाहिस के ऊपर एक निबंध लिखना है।

कुछ देर में ही सभी बचो ने निबंध लिख लिया और टीचर ने सभी की किताबे ले लिए ताकि वह घर जा कर सभी के निबंध को जांच सके।शाम को वह घर पहुँची और सारे कापियों को जांचने लगी।बचो की कापियां पढते पढते टीचर को आँखों से आंसू गिरने लगे।उसका पति वही बेठे बेठे टीवी देख रहा था।तभी उसके पति ने रोने का कारण पूछा।

ख्वाहिस-Heart Touching Story
ख्वाहिस-Heart Touching Story

टीचर बोली “सुबह मेने सभी बचो को ‘मेरी सबसे बड़ी ख्वाहिस’ पर निबंध लिखने को दिया था।एक बचे ने इच्छा जाहिर की है की भगवान उसे टेलीविज़न बना दे।”

यह सुन पति हँसने लगा।

टीचर बोली “आगे तो सुनो।उस बच्चे ने लिखा है कि यदि में टीवी बन जाऊंगा तो घर में मेरी एक जगह होगी।सब मेरे इर्द-गिर्द रहेंगे।जब में बोलूंगा तब सब लोग मुझे ध्यान से सुनेंगे।मुझे कोई रोक टोक नहीं होगा और ना ही कोई उलटे सवाल होंगे। मम्मी को टेंशन होगा तब वो मिझे डाँटेगी नहीं बल्कि मेरे साथ रहना पसंद करेगी।जब में tv बनूँगा तो पाप ऑफिस से आने के बाद थके होने के बावजूद वह मेरे साथ बैठेंगे।मेरे भाई बहन मेरे पास रहने के लिए झगड़ा करँगे।यहाँ तक अगर टीवी बंद रहेगा फिर भी मिझे लोग साफ सुथरा रखेंगे मेरी अच्छी देख भाल की जायेगी।ओर तो ओर टीवी के रूप में,में सबको ख़ुशी भी दे सकूंगा।”

यह सब सुन पति भी गंभीर होते हुए बोले “हे भगवान!!बिचारे बच्चे के माता पिता उस पर तो जरा भी ध्यान नही देते।”

टीचर आशु भरे आँखों से उसके पति की और देखि और बोली “पता है वह बच्चा कोन है??…हमारा अपना बच्चा छोटू।”

सोचिये कही ये छोटू आपका बच्चा तो नहीं??

दोस्तों,आज की इतनी भाग दौड़ भरी जिंदंगी में हमे वैसे ही कम वकत मिलता है और अगर वह वक़्त भी हम टीवी देखने में फेसबुक व्हाट्सअप्प मोबाइल पर गेम खेलने में लगा देंगे तो हम कभी अपने रिस्तों की अहमियत को और उस से मिलने वाले प्यार को नहीं समझ पाएंगे।ऐसा भी नहीं ही की यह सब चीझे बेकार है हाँ अगर आप इन सभी को जरूरत के हिसाब से उपयोग कर सकते है।पर साथ ही साथ अपने घरों के सदसियो को भी समय देना आवश्यक है।

मेरी यह कहानी सभी पसंदीदा कहानियों में से एक है।मुझे उमीद है यह कहानी आपको भी बेहद पसंद आयी होगी।आपको यह कहानी कैसी लगी उसके बारे में जरूर से निचे दिए गए comment में लिखे।आपके comments हमे दूसरी कहानियों के लिए प्रेरित करते है।धन्यवाद।।

Watch this Heart Touching Story on youtube

Also read This Stories:

  1. पंडित और नाविक
  2. मुट्ठीभर मेंढक
  3. बुढ़िया की सुई
  4. शिकंजी का स्वाद

 

दोस्तों अगर आपके पास भी प्रेरनादायी कोई कहानी है जो लगो के लिए useful हो सकती है तो हमें वह कहानी ईमेल करे हम आपके फोटो और नाम क साथ हम यहाँ पब्लिश करेंगे.अगर आपकी कोई वेबसाइट है तो उसे भी हमे send करे हम आपकी वेबसाइट को भी यहाँ पब्लिश करेंगे.और अगर आपकी कहानी लोगो क लिए उपयोगी रही तो हमारी तरफ से आपको पुरस्कार भी दिया जायेगा.

हमारा ईमेल है:[email protected]

visit our Facebook page

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

CommentLuv badge